Tuesday , June 18 2024

जमीन घोटाले के शातिर लेखपाल की सभी सेवाएं समाप्त

पंकज शाक्य संवाददाता मैनपुर

*कुरावली/मैनपुरी।* तहसील भोगांव क्षेत्र के ग्राम अहिरवा सहित विभिन्न गांव में तैनाती के दौरान गड़बड़ी करने वाले लेखपाल को सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है। एसडीएम रामशकल मौर्या ने उसकी बर्खास्तगी पर मुहर लगाई है। अहिरवा में भूमि घोटाला करने के आरोपी लेखपाल के खिलाफ भोगांव कोतवाली में भी मुकदमा दर्ज था जिसमें उसकी गिरफ्तारी हुई और उसे जेल भेजा गया। अब उसे सेवा से बर्खास्त भी कर दिया गया है। शुक्रवार को हुई इस कार्रवाई से महकमे में हड़कंप मच गया है।
एसडीएम रामशकल मौर्या ने बताया कि आरोपी लेखपाल ने खतौनी में बिना किसी सक्षम अधिकारी के आदेश के फर्जी एंट्री की और सरकारी जमीन को अपात्रों के हवाले कर दिया। उच्चाधिकारियों के निर्देश पर तहसीलदार सदर ने लेखपाल पर लगाए गए आरोपों की जांच की थी। विभिन्न स्तर पर हुई जांच के बाद आरोपी पर चार आरोप साबित हुए। मैनपुरी सदर, कुरावली तहसीलदारों द्वारा लेखपाल प्रदीपेंद्र सिंह राठौर को दोषी ठहराया और अभिलेखों में फर्जी प्रविष्टियां अंकित करने पर कड़ी कार्रवाई की संतुति की। संतुति रिपोर्ट आने के बाद लेखपाल को बर्खास्त कर दिया गया। वह पहले से ही निलंबिल चल रहा था। निलंबन अवधि के वेतन को भी रोक दिया गया है।

*इनका कहना हैं*

विभिन्न विवेचनाओं और रिपोर्ट के आधार पर लेखपाल प्रदीपेंद्र सिंह का आचरण सत्यनिष्ठा के विपरीत रहा। लेखपाल जैसे महत्वपूर्ण, शासकीय पद पर होने के बाद भी उसने गड़बड़ी की। प्रदीपेंद्र लेखपाल के पद पर रहने के योग्य नहीं है इसलिए उन्हें बर्खास्त किया गया है।- *रामशकल मौर्य एसडीएम कुरावली।*