Friday , March 1 2024

खेल

इंग्लैंड के खिलाफ बाकी तीन टेस्ट में भी नहीं खेलेंगे कोहली? राहुल और जडेजा की हो सकती है वापसी

भारत और इंग्लैंड के बीच पांच टेस्ट मैचों की सीरीज का तीसरा मुकाबला 15 फरवरी से राजकोट में खेला जाएगा। उससे पहले टीम इंडिया को बड़ा झटका लगा है। दिग्गज बल्लेबाज विराट कोहली ने सीरीज के बचे हुए बाकी तीन टेस्ट मैचों से अपना नाम वापस ले लिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, विराट ने बीसीसीआई को अपना फैसला बता दिया है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, कोहली ने शुक्रवार को बीसीसीआई को अपनी उपलब्धता के बारे में सूचित किया। इसी दिन चयनकर्ताओं ने राजकोट, रांची और धर्मशाला में टेस्ट के लिए टीम तय करने के लिए एक ऑनलाइन बैठक की थी। यह पहली बार होगा जब कोहली अपने करियर में किसी घरेलू टेस्ट सीरीज का हिस्सा नहीं होंगे।

शुरुआती दो टेस्ट में भी नहीं खेले थे विराट
सीरीज की शुरुआत में कोहली ने भारतीय कप्तान रोहित शर्मा, टीम प्रबंधन और चयनकर्ताओं से बात की थी और इस बात पर जोर दिया था कि देश का प्रतिनिधित्व करना हमेशा उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता रही है। हालांकि, कुछ व्यक्तिगत स्थितियां उनकी उपस्थिति और पूरे ध्यान की मांग करती हैं। बाद में बोर्ड ने भी कहा था कि वह विराट के फैसले का सम्मान करता है।

अय्यर का भी बाहर होना तय
रिपोर्ट्स के अनुसार, मध्यक्रम के बल्लेबाज श्रेयस अय्यर भी अगले तीन टेस्ट मैचों में नहीं खेल पाएंगे। अय्यर चोट के कारण बाहर हो गए हैं। बेंगलुरु में राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) आगे उनकी प्रगति पर नजर रखेगी। फॉरवर्ड डिफेंस खेलते समय अय्यर ने पीठ में अकड़न और ग्रोइन एरिया में दर्द की शिकायत की थी।

राहुल और जडेजा की वापसी!
बल्लेबाज केएल राहुल और ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा सीरीज के दूसरे टेस्ट में नहीं खेल पाए थे। दोनों को फिट घोषित कर दिया गया है और उनकी वापसी तय है। हैदराबाद टेस्ट के चौथे दिन जडेजा को हैमस्ट्रिंग चोट लगी थी। वहीं, राहुल ने दाहिने क्वाड्रिसेप्स में दर्द की शिकायत की थी। दोनों के शामिल होने का मतलब है कि भारतीय टीम के पास काफी संतुलित पक्ष होगा।

आकाश दीप को मिल सकता है मौका
रिपोर्ट्स के अनुसार, सीनियर चयन समिति ने शेष तीन टेस्ट मैचों के लिए आकाश दीप को चुनने का फैसला किया है। ऐसे में आवेश खान बाहर हो जाएंगे। चयन समिति का मानना है कि टेस्ट टीम के साथ बेंच पर बैठने से बेहतर आवेश के लिए रणजी ट्रॉफी में खेलना होगा। सीनियर टीम के साथ आकाश को बेहतर होने का मौका मिलेगा।

आखिरकार ईशान किशन का पता मिल ही गया! बड़ौदा में हार्दिक के साथ ट्रेनिंग कर रहे, बीसीसीआई नाराज

स्टार विकेटकीपर बल्लेबाज ईशान किशन इस समय टीम इंडिया से बाहर चल रहे हैं। पिछले साल ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टी20 सीरीज के बाद दक्षिण अफ्रीकी दौरे पर वह भारतीय टीम के साथ गए थे, लेकिन दौरे की शुरुआत में ही ब्रेक लेकर वापस लौट आए थे। तब से वह लाइमलाइट से गायब हैं। उनका कोई अता पता नहीं था। बीसीसीआई और टीम मैनेजमेंट को भी अब तक उन्होंने अपने आगे के प्लान के बारे में कुछ नहीं बताया है। मगर करीब डेढ़ महीने बाद उनके ठिकाने का पता चल गया है।

बड़ौदा में हैं ईशान किशन
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ईशान इस समय बड़ौदा में हैं। वह किरण मोरे एकेडमी में प्रैक्टिस कर रहे हैं। वह हार्दिक पांड्या और क्रुणाल पांड्या के साथ बड़ौदा के रिलायंस स्टेडियम में ट्रेनिंग कर रहे हैं। हार्दिक भी रिहैब में हैं और उनके आईपीएल में वापसी करने की संभावना है। हार्दिक मुंबई इंडियंस के कप्तान हैं और ईशान भी इसी टीम से खेलते हैं।

आईपीएल में नजर आ सकते हैं ईशान
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ईशान अब सीधे आईपीएल में खेलते नजर आएंगे। हालांकि, इस बारे में उन्होंने किसी को कोई जानकारी नहीं दी है। आईपीएल के तुरंत बाद विश्व कप होना है और इस लीग को विश्व कप के लिए टीम चुनने का एक जरिया माना जा रहा है। ईशान आईपीएल को टारगेट बना सकते हैं। हालांकि, उन्होंने अपनी उपलब्धता को लेकर किसी को कोई जानकारी नहीं दी है। भारतीय टीम मैनेजमेंट और कोच राहुल द्रविड़ को ईशान के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है।

रणजी से भी दूर हैं ईशान किशन
हाल ही में दूसरा टेस्ट जीतने के बाद जब राहुल द्रविड़ प्रेस कॉन्फ्रेंस में आए थे तो उन्होंने ईशान को लेकर बयान दिया था। किशन ने दक्षिण अफ्रीकी दौरे पर आराम मांगा था और तब से एक्शन में नहीं दिखे हैं। जब द्रविड़ से पूछा गया था तो उन्होंने कहा था कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी से पहले उन्हें कुछ घरेलू क्रिकेट खेलना होगा, ताकि वह सेलेक्शन के लिए फिर से उपलब्ध हो सकें। हालांकि, द्रविड़ और मैनजमेंट से मैसेज के बाद भी किशन रणजी ट्रॉफी नहीं खेल रहे हैं। वह झारखंड टीम का हिस्सा हैं। द्रविड़ ने कहा था कि सब कुछ ईशान पर ही निर्भर है कि आगे उन्हें क्या करना है। झारखंड क्रिकेट एसोसिएशन को भी ईशान ने खेलने को लेकर कोई जानकारी नहीं दी है।

सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट पर पड़ सकता है असर
ईशान के बीसीसीआई और टीम मैनेजमेंट को कोई जानकारी दिए बिना घूमने फिरने का रवैया सही नहीं लग रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इसका असर उनके सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट पर भी पड़ सकता है। उन्हें केंद्रीय अनुबंध से बाहर किया जा सकता है। ईशान फिलहाल सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट के कैटेगरी-सी में हैं। उनकी एनुअल सैलरी एक करोड़ रुपये है। उनके इंग्लैंड के खिलाफ बाकी बचे तीन टेस्ट के लिए चुना जाना भी लगभग नामुमकिन है। ऐसे में चयनकर्ता ध्रुव जुरेल और केएस भरत को ही चुन सकते हैं। ईशान की गैरमौजूदगी में शुरुआती दो टेस्ट के लिए इन दोनों को ही विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी दी गई थी।

‘आपने मिले मौके को गंवा दिया…’, खराब फॉर्म में चल रहे श्रेयस अय्यर पर बिफरे जहीर खान, लगाई क्लास

विशाखापत्तनम में इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच में श्रेयस अय्यर एक बार फिर बड़ा स्कोर करने में नाकाम रहे। इससे भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व तेज गेंदबाज जहीर खान निराश हैं। श्रेयस का वनडे विश्व कप 2023 में अच्छा प्रदर्शन था, लेकिन टेस्ट क्रिकेट में उनका फॉर्म संतोषजनक नहीं रहा है। दूसरे टेस्ट की दूसरी पारी के दौरान श्रेयस को अच्छी शुरुआत तो मिली, लेकिन 29 रन पर टॉम हार्टले ने उन्हें आउट कर दिया। जहीर ने कहा कि श्रेयस के पास इंग्लैंड के स्पिनरों के खिलाफ अच्छा खेलकर बड़ा स्कोर करने का मौका था, लेकिन उन्होंने अपने फॉर्म को फिर से हासिल करने का एक अच्छा मौका गंवा दिया।

जहीर ने श्रेयस को दी यह नसीहत
जहीर ने कहा- आपको उन लम्हों को समझने की जरूरत है जो आपके और टीम के लिए महत्वपूर्ण हैं और मुझे लगता है कि श्रेयस अय्यर के लिए भी वह पल था। एंडरसन अपना स्पेल पूरी कर चुके थे। केवल एक तेज गेंदबाज खेल रहा था और उसके बाद स्पिन का इस्तेमाल किया जा रहा था। आपके पास स्पिन खेलने की शीर्ष स्तर की क्षमता है। इसलिए आपने एक अवसर बर्बाद कर दिया। आप अधिक हावी होने की कोशिश करते हुए अपना विकेट खो देते हैं। जिस तरह का कॉम्पिटीशन अभी फिलहाल है, आपको इसका नुकसान हो सकता है।

दिसंबर 2022 के बाद एक भी अर्धशतक नहीं
श्रेयस ने दिसंबर 2022 के बाद से टेस्ट में एक भी अर्धशतक नहीं बनाया है और जहीर का मानना है कि अगर वह प्रदर्शन नहीं करते हैं, तो उन्हें केएल राहुल और विराट कोहली के लिए जगह खाली करनी पड़ सकती है। जहीर ने कहा- चयनकर्ता अगले कुछ दिनों में बाकी बचे तीन टेस्ट के लिए टीम का एलान कर सकते हैं। केएल राहुल और विराट कोहली की वापसी हो सकती है। इसलिए अगर आपके पास दो खिलाड़ी आते हैं, तो दो खिलाड़ी प्लेइंग इलेवन से भी बाहर हो जाएंगे क्योंकि वे ऐसे खिलाड़ी हैं जो सीधे प्लेइंग-11 में अपनी जगह ले लेंगे।

शुभमन गिल श्रेयस अय्यर से रेस में आगे
जहीर ने कहा, ‘इसलिए अगर आप रन नहीं बनाते या यह नहीं दिखाते कि आप पूरी तरह से तैयार हैं या आप परिस्थिति के मुताबिक खेलने की क्षमता रखते हैं, परिपक्वता दिखा सकते हैं और टीम के लिए योगदान दे सकते हैं तो शुभमन गिल निश्चित रूप से टीम में जगह बनाने की दौड़ में आगे हैं और आप कह सकते हैं कि श्रेयस ने मौका गंवा दिया।’

श्रेयस का टेस्ट करियर
श्रेयस ने अब तक 14 टेस्ट की 24 पारियों में 36.86 की औसत से 811 रन बनाए हैं। इस दौरान उन्होंने एक शतक और पांच अर्धशतक लगाए हैं। उनका पिछला 50+ रन का स्कोर दिसंबर 2022 में बांग्लादेश के खिलाफ आया था। तब उन्होंने ढाका में 87 रन की पारी खेली थी। इसके बाद से वह 13 पारी खेल चुके हैं और सिर्फ 216 रन बनाए हैं। पिछली 13 पारी में उनका उच्चतम स्कोर 35 रन का रहा है।

बुमराह ने रचा इतिहास, विश्व टेस्ट चैंपियनशिप में 100+ विकेट लेने वाले पहले भारतीय तेज गेंदबाज, कही यह बात

भारत ने इंग्लैंड के खिलाफ पांच मैचों की टेस्ट सीरीज में जबरदस्त वापसी करते हुए दूसरा मुकाबला 106 रन से अपने नाम किया। विशाखापत्तनम में खेले गए दूसरे टेस्ट में जसप्रीत बुमराह का कहर देखने को मिला। पहली पारी में तो उनकी गेंद को इंग्लिश बल्लेबाज समझ ही नहीं पाए, जबकि दूसरी पारी में वह और रविचंद्रन अश्विन टीम इंडिया की जीत के असली हीरो रहे। बुमराह ने विशाखापत्तनम टेस्ट की पहली पारी में छह और दूसरी पारी में तीन विकेट लिए। उन्हें प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया था। इसी के साथ इस स्टार भारतीय तेज गेंदबाज ने एक खास मुकाम भी हासिल किया।

वह विश्व टेस्ट चैंपियशनशिप, जो कि 2019 में शुरू हुआ था, उसमें 100 से ज्यादा विकेट लेने वाले पहले भारतीय तेज गेंदबाज और ओवरऑल दूसरे भारतीय गेंदबाज बन गए हैं। उनसे आगे सिर्फ अश्विन हैं, जिनके नाम इस प्रतियोगिता में 157 विकेट हैं। पहली पारी में छठा विकेट लेते ही बुमराह ने खास मुकाम हासिल किया। फिलहाल उनके नाम विश्व टेस्ट चैंपियनशिप में 24 मैचों में कुल 106 विकेट हैं। वह इस प्रतियोगिता में 100+ विकेट लेने वाले कुल मिलाकर नौवें गेंदबाज हैं। वहीं, तेज गेंदबाजों में वह सातवें हैं। उनसे पहले पैट कमिंस, मिचेल स्टार्क, स्टुअर्ट ब्रॉड, कगिसो रबाडा, टिम साउदी और जेम्स एंडरसन यह मुकाम हासिल कर चुके हैं। इसके अलावा दो स्पिनर नाथन लियोन और अश्विन हैं। लियोन डब्ल्यूटीसी में सबसे ज्यादा विकेट लेने वालों में शीर्ष पर हैं। उनके नाम 174 विकेट हैं।

विश्व टेस्ट चैंपियनशिप में बुमराह के 100वें शिकार जॉनी बेयरस्टो रहे। इतना ही बुमराह के टेस्ट में 150 विकेट भी पूरे हो गए हैं और वह इस मुकाम को छूने के लिए भारतीय तेज गेंदबाजों में सबसे कम समय लिया है। बुमराह के नाम टेस्ट में ओवरऑल 34 टेस्ट में 155 विकेट हैं और 27 रन देकर छह विकेट पारी में उनकी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी रही है। उन्हें विशाखापत्तनम टेस्ट में प्लेयर ऑफ द मैच का अवॉर्ड भी दिया गया। मैच के बाद उन्होंने कहा मैं आंकड़ों पर ध्यान नहीं देता। एक युवा के रूप में मैंने यह सब किया किया था और इसने मुझे उत्साहित किया था, लेकिन अब यह एक अतिरिक्त बोझ है। एक युवा खिलाड़ी के रूप में यॉर्कर पहली गेंद है जिसे मैंने सीखा है। मैंने कई खेल के दिग्गजों को यॉर्कर का इस्तेमाल करते देखा था। चाहे वह वकार, वसीम और यहां तक कि जहीर खान भी हों।

‘बदलाव के दौर से गुजर रहे’
बुमराह ने कहा- हम बदलाव के दौर से गुजर रहे हैं इसलिए मुझे लगता है कि यह मेरी जिम्मेदारी है कि मैं उनकी (नए खिलाड़ियों की) हर संभव मदद कर सकूं। हम कुछ चीजों पर चर्चा करते हैं। मैं लंबे समय से उनके (रोहित) साथ खेल रहा हूं। एंडरसन के साथ मैच में अपनी प्रतिस्पर्धा पर बुमराह ने कहा- ऐसा कुछ नहीं है। एक क्रिकेटर होने से पहले मैं तेज गेंदबाजी का फैन हूं। यदि कोई अच्छा कर रहा है, तो उन्हें बधाई मिलनी चाहिए। मैं स्थिति और विकेट को देखता हूं और सोचता हूं कि मेरे पास क्या विकल्प हैं। मुझे सिर्फ एक चीज नहीं करते रहना है।

मैच में क्या हुआ?
विशाखापत्तनम में खेले गए दूसरे टेस्ट की बात करें तो भारतीय टीम ने यशस्वी जायसवाल के दोहरे शतक की बदौलत पहली पारी में 396 रन बनाए थे। इसके जवाब में इंग्लैंड की टीम अपनी पहली पारी में 253 रन बनाकर ऑलआउट हो गई। भारत को पहली पारी में 143 रनों की बढ़त मिली। टीम इंडिया ने अपनी दूसरी पारी में गिल के शतक के दम पर 255 रन बनाए और इंग्लैंड के सामने 399 रनों का लक्ष्य रखा। फिर इंग्लिश टीम को 292 पर समेट कर भारत ने मैच अपने नाम किया। भारत की ओर से बल्लेबाजी में यशस्वी और शुभमन के बाद गेंदबाजी में जसप्रीत बुमराह और रविचंद्रन अश्विन का भी कमाल देखने को मिला। तीसरा टेस्ट 15 फरवरी से राजकोट में खेला जाएगा।

भारत ए ने इंग्लैंड लॉयंस को पारी और 16 रन से हराया, सीरीज में 1-0 की बढ़त बनाई

भारत ए टीम ने शानदार प्रदर्शन के साथ इंग्लैंड लॉयंस को दूसरे अनौपचारिक टेस्ट में पारी और 16 रन से हरा दिया। इस तरह भारत ए ने तीन मैचों की सीरीज में 1-0 से बढ़त बना ली है। मेजबान टीम ने इंग्लैंड लॉयंस को दूसरी पारी में 321 रन पर ढेर कर दिया। अर्शदीप सिंह (2/62)और यश दयाल (1/37) ने ओली रॉबिन्सन (85) और टॉम लावेस (32) के विकेट लिए। मेहमान टीम ने दिन की शुरुआत 8 विकेट पर 304 रन से शुरू की थी, लेकिन महज 5.2 ओवरों में अर्शदीप ने रॉबिन्सन को विकेटकीपर उपेंद्र यादव के हाथों कैच कराया। लावेस ने 18 के अपने निजी स्कोर में 14 रन जोड़े लेकिन दयाल ने उन्हें आकाशदीप के हाथों कैच करा दिया। सरफराज खान (161) को मैन ऑफ द मैच चुना गया। भारत ए ने पहली पारी में 489 रन बनाए थे।

बायें हाथ के स्पिनर सौरभ कुमार ने अपने कैरियर में 22वीं बार पारी के पांच विकेट लिये। इंग्लैंड लायंस ने 341 रन से पिछड़ने के बाद दूसरी पारी में आठ विकेट पर 304 रन बना लिए थे। एक समय ऐसा लग रहा था कि इंग्लैंड की टीम पारी की हार टाल लेगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। विकेटकीपर ओलिवर रॉबिनसन ( नाबाद 84 ) और ब्राइडन कार्स (38) के बीच सातवें विकेट के लिये 102 रन की साझेदारी की मदद से लायंस ने मैच को चौथे दिन तक खींच दिया। एक समय उसके छह विकेट 156 रन पर गिर गए थे और पारी खत्म होती दिख रही थी।

तीसरे दिन के आकर्षण का केंद्र सौरभ रहे जो प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 300 विकेट लेने के करीब है। उन्होंने 29 ओवर में 104 रन देकर पांच विकेट लिये। उन्होंने इससे पहले न्यूजीलैंड ए और बांग्लादेश ए के खिलाफ भी पांच पांच विकेट लिये हैं।यह उनकी बदकिस्मती है कि वह अक्षर पटेल और रविंद्र जडेजा के समकालीन है जिसकी वजह से भारतीय टीम में जगह नहीं बना पा रहे। बंगाल के तेज गेंदबाज आकाश दीप ने 18 ओवर में 57 रन देकर तीन विकेट लिये।पहली पारी में 152 रन बनाने वाली इंग्लैंड की टीम ने दूसरी पारी में 300 रन का आंकड़ा पार कर लिया है। ऐसे में इंग्लैंड के खिलाड़ी हार के बावजूद अपने प्रदर्शन से ज्यादा निराश नहीं होंगे।

लॉरेन बेल के बाद इंग्लैंड की कप्तान ने डब्ल्यूपीएल से वापस लिया नाम, आरसीबी से जुड़ी यह अफ्रीकी खिलाड़ी

इंग्लैंड महिला क्रिकेट टीम की कप्तान हीथर नाइट ने शनिवार, 27 जनवरी को आगामी महिला प्रीमियर लीग 2024 से अपना नाम वापस ले लिया। वह स्मृति मंधाना की कप्तानी वाली रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर टीम का हिस्सा थीं। फ्रेंचाइजी ने 23 फरवरी से शुरू होने वाले टूर्नामेंट के दूसरे संस्करण के लिए नाइट की जगह दक्षिण अफ्रीकी स्टार नादिन डी क्लर्क को टीम में शामिल किया है।

33 वर्षीय नाइट से पहले इंग्लैंड की युवा तेज गेंदबाज लॉरेन बेल भी महिला प्रीमियर लीग 2024 से अपना नाम वापस ले चुकी हैं। बेल ने शुक्रवार को इस लीग से अपना नाम वापस लिया था। यूपी वॉरियर्ज की टीम ने लॉरेन बेल की जगह श्रीलंकाई महिला क्रिकेट टीम की कप्तान चमारी अटापट्टू को अपने साथ जोड़ा है।

इंग्लैंड की महिला क्रिकेट टीम मार्च में न्यूजीलैंड के खिलाफ सीमित ओवर क्रिकेट की सीरीज खेलेगी। इंग्लैंड की मेजबानी में होने वाली इस सीरीज के चलते इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड ने कथित तौर पर खिलाड़ियों को राष्ट्रीय टीम और डब्ल्यूपीएल के बीच चयन करने के लिए कहा है। कयास लगाए जा रहे हैं कि इसी वजह से इंग्लैंड की खिलाड़ी महिला प्रीमियर लीग से अपना नाम वापस ले रही हैं।

डब्ल्यूपीएल 2024 के लिए आरसीबी की अपडेटेड टीम
स्मृति मंधाना (कप्तान), सोफी डिवाइन, एलिस पेरी, इंद्राणी रॉय, कनिका आहूजा, आशा शोभना, दिशा कसाट, रेणुका सिंह, ऋचा घोष, श्रेयंका पाटिल, जॉर्जिया वेयरहम, केट क्रॉस, एकता बिष्ट, शुभा सतीश, सब्बिनेनी मेघना, सिमरन बहादुर, सोफी मोलिनेक्स, नादिन डी क्लार्क।

‘बैजबॉल में दिलचस्पी नहीं’, हैदराबाद टेस्ट से पहले बोले रोहित, बशीर के वीजा विवाद पर कही यह बात

भारत और इंग्लैंड के बीच पांच टेस्ट मैचों की सीरीज गुरुवार (24 जनवरी) को शुरू होगी। सीरीज के शुरुआती मुकाबले से पहले ‘बैजबॉल’ की चर्चा काफी हो रही है। ब्रैंडन मैकुलम के कोच बनने के बाद इंग्लैंड की टीम के खेलने को तरीके को बदला। इंग्लिश टीम अब टेस्ट में तेजी से रन बनाती है। किसी भी परिस्थिति में आक्रामक बल्लेबाजी के इस तरीके को ‘बैजबॉल’ नाम दिया गया है। भारत के कप्तान रोहित शर्मा ने मैच से एक दिन पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसे लेकर बड़ी बात कही।

रोहित ने टेस्ट क्रिकेट में इंग्लैंड के ‘बैजबॉल’ दृष्टिकोण को महत्व देने से इनकार कर दिया। रोहित ने कहा कि उनका ध्यान विपक्षी टीम के आंकड़ों पर ध्यान देने के बजाय इस बात पर केंद्रित है कि उनकी टीम कैसे खेलती है। हिटमैन ने कहा, ”हम अपना क्रिकेट खेलना चाहेंगे। मुझे इसमें कोई दिलचस्पी नहीं है कि विपक्षी टीम कैसा खेलेगी। एक टीम के रूप में हम क्या करना चाहते हैं, इस पर मेरा ध्यान केंद्रित है।”

बशीर के लिए दुख है: रोहित
रोहित ने इसके अलावा इंग्लैंड के अनकैप्ड खिलाड़ी शोएब बशीर के वीजा विवाद पर भी अपनी बात कही। उन्होंने कहा, ”मुझे शोएब बशीर के लिए दुख है। दुर्भाग्य से मैं आपको अधिक जानकारी देने के लिए वीजा कार्यालय में नहीं बैठता, लेकिन मुझे आशा है कि वह इसे जल्दी प्राप्त कर लेंगे और हमारे देश का आनंद उठाएंगे।”

बशीर को अपने वीजा विलंब को हल करने के लिए ब्रिटेन वापस जाने के लिए मजबूर होना पड़ा। 20 वर्षीय बशीर अबू धाबी में टीम के साथ थे। वहां उन्होंने सीरीज से पहले काफी अभ्यास किया था। इस पर इंग्लैंड के कप्तान बेन स्टोक्स ने कहा, ”कप्तान के रूप में मुझे यह विशेष रूप से निराशाजनक लगता है। हमने दिसंबर के मध्य में टीम की घोषणा की थी और अब बशीर को यहां आने के लिए वीजा नहीं मिल रहा है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है और मैं उनके लिए बहुत निराश हूं। बशीर दुर्भाग्य से यहां नहीं आ सके।”

कोहली की जगह अनुभवी खिलाड़ी को क्यों मौका नहीं मिला?
भारत के दिग्गज बल्लेबाज विराट कोहली शुरुआती दो टेस्ट मैचों में नहीं खेलेंगे। उन्होंने निजी कारणों से अपना नाम वापस ले लिया है। बीसीसीआई ने उन्हें छुट्टी दे दी है। उनके स्थान पर रजत पाटीदार को मौका मिला है। हालांकि, बीसीसीआई ने इसका आधिकारिक एलान नहीं किया है। माना जा रहा था कि अनुभवी चेतेश्वर पुजारा की वापसी हो सकती है। उन्होंने रणजी ट्रॉफी के मौजूदा सीजन में एक दोहरा शतक लगाया है। जब रोहित से इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ”हमने कोहली की कमी को पूरा करने के लिए एक अनुभवी खिलाड़ी को वापस लाने के बारे में सोचा लेकिन फिर हम युवाओं को कब मौका देंगे? हम नहीं चाहते कि वे विदेशों में सीधे तौर पर सामने आएं।”

विराट कोहली की जगह इस खिलाड़ी को टेस्ट सीरीज में मिला मौका, हैदराबाद में टीम से जुड़ने की खबर

भारत और इंग्लैंड के बीच पांच टेस्ट मैचों की सीरीज गुरुवार (25 जनवरी) को शुरू हो रही है। दोनों टीमों के बीच पहला मुकाबला हैदराबाद के राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम में खेला जाएगा। सीरीज के शुरुआती दो मैचों में दिग्गज बल्लेबाज विराट कोहली नहीं खेलेंगे। उन्होंने निजी कारणों से अपना नाम वापस लिया है। अब ऐसी खबरें आ रही हैं कि उनके स्थान पर मध्य प्रदेश के बल्लेबाज रजत पाटीदार को टीम के साथ जोड़ा गया है। बीसीसीआई ने इसे लेकर कोई आधिकारिक एलान नहीं किया है।

रजत पाटीदार को हैदराबाद में बीसीसीआई के वार्षिक पुरस्कार समारोह के दौरान देखा गया था। कहा जा रहा है कि वह टीम इंडिया के साथ जुड़ गए हैं। रजत रणजी ट्रॉफी विजेता टीम के सदस्य हैं। वह चौथे नंबर पर ही बल्लेबाजी करते हैं। उन्होंने अहमदाबाद में इंग्लैंड लायंस के खिलाफ भारत ए के लिए पहले अनौपचारिक टेस्ट में 151 रन की पारी खेली थी। इससे पहले पाटीदार ने इंग्लैंड लायंस के खिलाफ ही दो दिवसीय अभ्यास मैच में 111 रन बनाए थे। 30 साल के पाटीदार ने घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन किया है और उनके आंकडे जबरदस्त हैं।

नौ महीने तक क्रिकेट से दूर रहे थे पाटीदार
पाटीदार ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 45.97 की औसत से 4000 रन बनाए हैं। रजत ने 12 शतक भी लगाए हैं। मध्य प्रदेश को रणजी चैंपियन बनाने में उन्होंने अहम भूमिका निभाई थी। रजत ने 2021-22 सीजन में नौ पारियों में 82.25 की औसत से 658 रन बनाए थे। वह सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ियों में दूसरे स्थान पर थे। रजत ने मुंबई के खिलाफ फाइनल में मैच जिताने वाला शतक भी लगाया था। पाटीदार एड़ी की चोट के कारण लगभग नौ महीने तक बाहर रहे। उन्हें सर्जरी करानी पड़ी थी। पिछले साल दिसंबर में रजत ने दक्षिण अफ्रीका के दौरे पर अपना वनडे डेब्यू किया था।

विराट को लेकर बीसीसीआई ने क्या कहा था?
बीसीसीआई ने अपने बयान में कहा था, ”विराट कोहली ने निजी कारणों का हवाला देते हुए बीसीसीआई से इंग्लैंड के खिलाफ आगामी टेस्ट सीरीज के पहले दो टेस्ट से हटने का अनुरोध किया है। विराट ने कप्तान रोहित शर्मा, टीम प्रबंधन और चयनकर्ताओं से बात की है। उन्होंने इस बात पर जोर दिया है कि देश का प्रतिनिधित्व करना हमेशा उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता रही है, लेकिन कुछ व्यक्तिगत स्थितियां उनकी उपस्थिति और पूरे ध्यान की मांग करती हैं।”

बोर्ड ने आगे कहा, ”बीसीसीआई उनके फैसले का सम्मान करता है। बोर्ड और टीम प्रबंधन ने स्टार बल्लेबाज को अपना समर्थन दिया है और टेस्ट सीरीज में सराहनीय प्रदर्शन करने के लिए टीम के बाकी सदस्यों की क्षमताओं पर भरोसा है। बीसीसीआई मीडिया और प्रशंसकों से अनुरोध करता है कि वे इस दौरा

कोच द्रविड़ का बड़ा एलान, इंग्लैंड के खिलाफ दो टेस्ट के लिए राहुल को इस जिम्मेदारी से किया मुक्त

भारत के मुख्य कोच राहुल द्रविड़ ने मंगलवार को कहा कि बल्लेबाज केएल राहुल इंग्लैंड के खिलाफ पांच मैचों की टेस्ट सीरीज में विकेटकीपर के रूप में नहीं खेलेंगे। भारत और इंग्लैंड के बीच पांच मैचों की टेस्ट सीरीज गुरुवार से हैदराबाद में शुरू होगी, जबकि अगले चार टेस्ट विशाखापत्तनम, राजकोट, रांची और धर्मशाला में खेले जाएंगे। द्रविड़ के इस बयान से साफ हो गया है कि शुरुआती दो टेस्ट में केएस भरत और ध्रुव जुरेल में से किसी एक का खेलना तय हो गया है। भरत पहले भी विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी संभालते रहे हैं, जबकि ध्रुव को पहली बार सीनियर टीम में मौका मिला है।

राहुल को विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी से मुक्त किया
भारत के मुख्य कोच ने कहा कि राहुल ने स्टंप के पीछे शानदार प्रदर्शन किया है, लेकिन इसके बावजूद टीम में शामिल दो प्रतिभाशाली विकेटकीपर में से किसी एक को विकेटकीपर की भूमिका के लिए चुना जाएगा। द्रविड़ ने कहा कि यह फैसला लंबी सीरीज और मौसम की स्थिति को देखकर लिया गया है।

भरत या जुरेल में से किसे मिलेगा मौका?
द्रविड़ ने कहा, ‘राहुल सीरीज में विकेटकीपर के तौर पर नहीं खेलेंगे। मुझे लगता है कि हम चयन से ही इसके बारे में काफी स्पष्ट थे। हमने दो अन्य लोगों को चुना था जो हमारे लिए इस भूमिका को निभा सकते हैं। राहुल ने दक्षिण अफ्रीका में हमारे लिए शानदार काम किया और उस सीरीज को ड्रॉ कराने में हमारी मदद से अहम भूमिका निभाई थी, लेकिन पांच टेस्ट मैचों और इन हालात में खेलने पर विचार करते हुए चयन हमारे दो अन्य विकेटकीपरों के बीच होगा।

विराट के बिना उतरेगी भारतीय टीम
भारतीय टीम इंग्लैंड के खिलाफ पहले दो टेस्ट मैचों में स्टार बल्लेबाज विराट कोहली के बिना उतरेगी। विराट ने निजी कारणों से टीम से हटने का अनुरोध किया था। अनुभवी बल्लेबाज रोहित शर्मा टीम का नेतृत्व करेंगे, जबकि स्टार तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह उप-कप्तान की भूमिका निभाएंगे। भारतीय तेज गेंदबाजी आक्रमण में आवेश खान, मोहम्मद सिराज और मुकेश कुमार को भी 16 सदस्यीय मजबूत टीम में शामिल किया गया है।

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पहली बार हुए दो सुपर ओवर, नहीं देख पाए मैच तो यहां पढ़ें पूरा रोमांच

भारत और अफगानिस्तान के बीच टी20 सीरीज का तीसरा और आखिरी मैच टीम इंडिया ने दूसरे सुपर ओवर में जीत लिया। इस जीत के साथ ही भारत ने सीरीज 3-0 से अपने नाम की। रोमांच का चरम क्या होता है, यह भारत और अफगानिस्तान के बीच तीसरे टी20 में देखने को मिला। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के इतिहास में पहली बार दो सुपर ओवर खेले गए। पहला और दूसरा टी20 छह-छह विकेट से जीतने के बाद टीम इंडिया ने तीसरे टी20 में डबल सुपर ओवर में अफगानिस्तान को हरा दिया। निर्धारित 20 ओवर में भारत ने रोहित शर्मा की नाबाद 121 रन की पारी और रिंकू सिंह के नाबाद 69 रन की बदौलत भारत ने चार विकेट पर 212 रन बनाए थे। जवाब में अफगानिस्तान की टीम भी 20 ओवर में छह विकेट गंवाकर 212 रन बना सकी। मैच टाई हुआ और सुपर ओवर में पहुंचा। पहले सुपर ओवर में दोनों टीमों ने 16-16 रन बनाए। दूसरे सुपर ओवर में भारत के 11 रन के जवाब में अफगानिस्तान एक रन बना सका और भारत ने मैच जीत लिया।

भारत की पारी
भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवर में चार विकेट गंवाकर 212 रन बनाए। बेंगलुरु के चिन्नास्वामी स्टेडियम में रोहित और रिंकू का तूफान देखने को मिला। एक वक्त भारत ने 22 रन पर चार विकेट गंवा दिए थे। यशस्वी जायसवाल चार रन और शिवम दुबे एक रन बनाकर आउट हुए। वहीं, विराट कोहली और संजू सैमसन खाता नहीं खोल सके। इसके बाद रोहित और रिंकू ने पांचवें विकेट के लिए 95 गेंद में 190 रन की नाबाद साझेदारी की।

किसी ने नहीं सोचा था कि टीम इंडिया 200 के स्कोर तक पहुंच पाएगी, लेकिन हिटमैन और रिंकू ने ऐसा कर दिखाया। रोहित ने टी20 अंतरराष्ट्रीय करियर का रिकॉर्ड पांचवां शतक लगाया। वह इस प्रारूप में सबसे ज्यादा शतक लगाने वाले खिलाड़ी बन गए हैं। वह 69 गेंद में 11 चौके और आठ छक्के की मदद से 121 रन बनाकर नाबाद रहे। वहीं, रिंकू ने टी20 अंतरराष्ट्रीय करियर का दूसरा अर्धशतक लगाया। वह 39 गेंद में 69 रन बनाकर नाबाद रहे। अपनी पारी में उन्होंने दो चौके और छह छक्के लगाए।

अफगानिस्तान की पारी
213 रन के विशाल लक्ष्य का पीछा करने उतरी अफगानिस्तान टीम को कप्तान इब्राहिम जादरान और रहमनुल्लाह गुरबाज ने अच्छी शुरुआत दिलाई। दोनों ने 93 रन जोड़े। इस साझेदारी को कुलदीप यादव ने तोड़ा। उन्होंने गुरबाज को कैच आउट कराया। वह 32 गेंद में तीन चौके और चार छक्के की मदद से 50 रन बनाए। वहीं, जादरान 41 गेंद में चार चौके और एक छक्के की मदद से 50 रन बनाकर आउट हुए। अजमतुल्लाह ओमरजई खाता नहीं खोल सके।

मोहम्मद नबी ने 16 गेंद में दो चौके और तीन छक्के की मदद से 34 रन की तूफानी पारी खेल मैच अफगानिस्तान की तरफ मोड़ दिया। हालांकि., वॉशिंगटन सुंदर ने 17वें ओवर में सधी हुई गेंदबाजी की नबी को पवेलियन भेजा। करीम जनत दो रन बनाकर रन आउट और नजीबुल्लाह जादरान पांच रन बनाकर आउट हो गए। इन विकेट ने मैच को फिर रोमांचक बना दिया।

आखिरी ओवर में अफगानिस्तान को जीत के लिए 19 रन की दरकार थी। गुलबदिन नईब क्रीज पर थे। उन्होंने शराफुद्दीन अशरफ के साथ मिलकर 20वें ओवर में 18 रन बनाए और मैच टाई हो गया। गुलबदिन 23 गेंद में चार चौके और चार छक्के की मदद से 55 रन बनाकर नाबाद रहे। भारत की ओर से वॉशिंगटन सुंदर ने तीन विकेट लिए। वहीं, आवेश खान और कुलदीप यादव को एक-एक विकेट मिला।

सुपर ओवर में क्या हुआ?
पहले सुपर ओवर में अफगानिस्तान ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 16 रन बनाए। जवाब में भारत भी 16 रन बना सका। दूसरे सुपर ओवर में पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत ने 11 रन बनाए और फिर अफगानिस्तान को एक रन ही बनाने दिया। अफगानिस्तान की टीम ने तीन गेंद में ही दो विकेट गंवा दिए और इस तरह टीम इंडिया ने जीत हासिल की। रवि बिश्नोई दूसरे सुपर ओवर में गेंदबाजी के लिए आए और अफगानिस्तान की टीम उनके फिरकी में फंस गई। तीन गेंद में ही उन्होंने मोहम्मद नबी और रहमनुल्लाह गुरबाज के दो विकेट लिए। एक सुपर ओवर में किसी एक टीम के दो विकेट गिरने पर पारी वहीं समाप्त हो जाती है।