Saturday , May 25 2024

लखना मे बिना डिग्री,डिप्लोमा ओर पंजीकरण के संचालित हो रही पैथालाॅजी लैब

तरूण तिवारी बकेवर इटाव
बिना डिग्री,डिप्लोमा और पंजीकरण संचालित तमाम पैथालाॅजी लैबकस्बा लखना में मरीजों की खून की जांच के नाम पर मोटी रकम बसूल रहे हैं। उनकी गलत रिपोर्ट से मरीजों को मानसिक अघात पहुंच रहा है। बुखार के मरीजों को बुखार,बायरल,टायफाइड जैसी बीमारियां बताई जा रही हैं। इसमें झोलाछाप भी लैबों का सहयोग ग्रामीण आंचल से करते देखे जा रहे हैं। इन लैबों को संचालित कराने में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का सहयोग भी सूत्र बता रहे हैं।
इन दिनों मच्छरजनित बीमारियों का मौसम चल रहा है। कस्बा लखना में इस समय तमाम पैथालाॅजी सेन्टर बिना रजिस्ट्रेशन के संचालित हैं। इन पर लखना के चिकित्सकों के द्वारा बुखार के मरीजों को जांच के लिए भेजा जा रहा है। जो कि बायरल को मलेरिया व मलेरिया को अन्य बीमारी बताकर रिपोर्ट निकालकर दे रहे हैं। फिर चिकित्सक भी उनको उसी रिपोर्ट के आधार पर दबा देने का काम कर रहे हैं। जिससे प्लेट्टेस कम होने की बात कहकर उनको गर्म दवाईयां दी जा रही हैं। जिससे मरीजों को आराम न मिलने पर इटावा में प्राइवेट चिकित्सक के यहां दबाईयां लेने जाना पड रहा है।
इस कस्बा में इस समय करीब आधा दर्जन पैथालाॅजी बिना डिग्री, डिप्लोमा के संचालित हो रही हैं। जिनका झोलाछापों से कमीशन बंधा हुआ है। और वह कमीशन के कारण मरीजों को इनके यहां भेजकर गलत रिपोर्ट निकालने का काम करने के साथ मरीजों की जान जोखिम में डालने का काम करने में जुटे हुए हैं। सूत्र बताते हैं कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा जब झोलाछाप के विरुद्ध अभियान चलाया जाता है। तो य लोग भी अपनी पैथालाॅजी बन्द करके भाग जाते हैं। तो इन पर कार्यवाही नहीं हो पाती है। तो कहीं न कहीं स्वास्थ्य विभाग की मिलीभगत से इंकार नहीं किया जा सकता है।
वहीं इस सम्बंध में जब उप मुख्य चिकित्साधिकारी डा महेश चन्द्रा से बात की तो उन्होंने बताया कि शीघ्र ही महेवा ब्लाक के बकेवर, लखना,महेवा,निबाडीकला,अहेरीपुर,बहेडा,बिजौली,लवेदी,नवादा,बहादुरपुर में झोलाछापों व अबैध संचालित पैथालाॅजी के विरुद्ध अभियान पुलिस के साथ चलाकर कार्यवाही की जाएगी। मरीजों के साथ किसी तरह का खिलवाड़ नहीं होने दिया जाएगा।