Thursday , June 13 2024

इटावा चंद्रगुप्तों का निर्माण हर युग में चाणक्य सरीखे शिक्षकों की नैतिक जिम्मेदारी है – डॉ रिपुदमन सिंह|

इटावा ,| हमारे जीवन का पहला स्कूल माँ होती है, फिर विद्यालय् के शिक्षक और समाज के जिम्मेदार व्यक्ति मिलकर छात्र व् समाज का निर्माण करते हैं। समाज आज भी शिक्षक और छात्र के समन्वय पर आधारित है। शिक्षक को प्रत्येक युग में राष्ट्र का निर्माता कहा गया है और उसके प्रत्येक छात्र को उस राष्ट्र का भाग्य निर्धारण करने वाली महत्वपूर्ण कड़ी बताया गया है , उक्त उद्गार भारत विकास परिषद मुख्य शाखा इटावा द्वारा आयोजित गुरूवंदन छात्र अभिनन्दन-2021 कार्यक्रम में नारायण वेंकट हाल इटावा के सभागार में क्षेत्रीय उच्च शिक्षा अधिकारी कानपुर मण्डल डॉ रिपुदमन सिंह ने व्यक्त करते हुए अपने उद्बोधन में कहा कि प्राचीन गुरु शिष्य परंपरा और आश्रम पद्धति से लेकर वर्तमान के अभिनव शैक्षिक प्रयासों के मध्य के समन्वय में आज भी चंद्रगुप्त सरीखे शिष्यों का निर्माण करना चाणक्य जैसे शिक्षकों की महत्वपूर्ण रूप से नैतिक जिम्मेदारी है |

विशिष्ट अतिथि प्रांतीय महामंत्री ब्रह्मावर्त प्रांत अशोक त्रिपाठी ने अपने उदबोधन में कहा कि भारत विकास परिषद् वर्तमान में अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर सामाजिक सेवा के क्षेत्र में संपर्क,सहयोग,संस्कार, सेवा और समर्पण के पांच स्तंभों का अनुसरण करते हुए पिछले 60 वर्षों से अभिनव कार्य कर रही है।परिषद द्वारा प्रतिवर्ष अखिल भारतीय स्तर पर आयोजित गुरूवंदन- छात्र अभिनंदन के इस कायर्क्रम की बड़ी महत्ता है, आदिकाल की वैदिक परंपरा से शिक्षा के वर्तमान तकनीकी आधुनिक परिदृश्य तक शिक्षक की महत्ता सदैव ही प्रासंगिक रही है, छात्र एवम् शिक्षक एक ही सिक्के के दो पहलू हैं ।


मंचाशीन मुख्य अतिथि डॉ रिपुदमन सिंह क्षेत्रीय उच्च शिक्षा अधिकारी कानपुर व् विशिष्ट अतिथि प्रांतीय महामंत्री अशोक त्रिपाठी, शाखा संरक्षक जगदीश प्रसाद पाण्डेय ,शाखा अध्यक्ष हरिदत्त दीक्षित ,सचिव के. के. त्रिपाठी ,कोषाध्यक्ष अश्वनी कुमार मिश्र, संयोजक कुलदीप अवस्थी, सह संयोजक ओम नारायण शुक्ल, प्रांतीय संरक्षक श्री विवेक कुलश्रेठ, सह सचिव अत्रि दीक्षित आदि परिषद के पदाधिकारियों द्वारा सरस्वती पूजन तथा दीप-प्रज्वलन कर सस्वर बंदेमातरम् गायन के साथ कार्यक्रम प्रारम्भ कराया गया | श्री विवेक कुलश्रेष्ठ,प्रांतीय संरक्षक द्वारा कार्यक्रम संयोजक कुलदीप अवस्थी के सहयोग से मुख्य अतिथि व् विशिष्ट अतिथि का बैज अंलकरण करके परिचय कराया गया । पूर्व अध्यक्ष बी. के. सिंह द्वारा परिषद का परिचय कराया गया, पूर्व अध्यक्ष आनंद प्रकाश नारायण दुबे ने गुरु वंदन छात्र अभिनंदन की महिमा का संक्षेप में वर्णन अपने उद्बोधन में करते हुए कहा कि वर्तमान सरकारों को मूल्य आधारित शिक्षा पर ध्यान देना चाहिए जिससे छात्र संस्कारवान बन सकें ।


अतिथि रमेश शुक्ला ने अपने वक्तव्य में कहा कि अभिभावक और समाज को गुरुओं और छात्रों के समन्वय हेतु प्रयास करना चाहिए और शिक्षक को भी चाहिए कि वह अपने अध्यापन व् कुशल निर्देशन द्वारा छात्र में रूचि लें, छात्र व् शिक्षक के मध्य पूंजीवाद नहीं आना चाहिए , शिक्षक के साथ अभिभावकों को भी बच्चों में अच्छे संस्कार डालने चाहिए ताकि बच्चे अपने माता-पिता व् समाज के शिक्षकों एवम् सभी बड़ो का सम्मान कर सकें।


गुरु वंदन छात्र अभिनंदन कार्यक्रम में कुल सत्रह शिक्षकों को माल्यार्पण करके अंगवस्त्र ओढ़ाकर सम्मान पत्र के साथ अलंकृत किया गया,तत्पश्चात जनपद के विभिन्न 17 विद्यालयों के कुल 33 छात्र-छात्राओं को मैडल के साथ प्रशस्ति पत्र एवम् फाइल बैग आदि के साथ सम्मानित करने के साथ कुल 50 शिक्षक व् छात्रों को सम्मिलित रूप से सम्मानित किया गया ,कार्यक्रम का समापन संरक्षक जगदीश नारायण पांडेय के आशीर्वचन उद्बोधन के साथ किया गया| संयोजक कुलदीप अवस्थी एवम सहसंयोजक ओम नारायण शुक्ला द्वारा सभी अतिथियों का आभार व्यक्त किया गया,उपरोक्त कार्यक्रम में परिषद् के पूर्व अध्यक्ष सर्वश्री बी0 के0 सिंह,श्री महेश चंद्र तिवारी ,विवेक कुलश्रेष्ठ,आशाराम मिश्र,प्राचार्य महेश तिवारी,ओम नारायण शुक्ल,एडवोकेट शिव किशोर दुबे ,डा0 आनन्द मोहन चौधरी,आनंद प्रकाश नारायण दुबे, मुन्ना लाल वर्मा, एस. एन. चौधरी, इंदु कुलश्रेष्ठ,पूनम तिवारी , डॉ इंदु बाला मिश्रा, नरेंद्र पाल सिंह, सत्यनारायण दुबे, बी.के.पांडेय,आर. डी.त्रिपाठी, सुधीर कुमार मिश्र, हरिशंकर त्रिपाठी, जगदीश नारायण दीक्षित,घनश्याम तिवारी,प्रशांत दीक्षित, अनामिका, तरन्नुम आदि की सराहनीय उपस्थिति रही| कार्यक्रम का समापन समवेत स्वरों में राष्ट्रगान के साथ किया गया तथा कार्यक्रम का सफल संचालन प्रांतीय संरक्षक श्री विवेक कुलश्रेष्ठ एवं अश्वनी कुमार मिश्र द्वारा किया गया |

गुरु वंदन में सम्मानित किए गए शिक्षक गण-

सेंट मैरी इंटर कॉलेज की शिक्षिका टेसी टॉमी, शीतल प्रसाद शोरावाल बालिका इंटर कॉलेज की शिक्षिका प्रेरणा सिंह , शिवाजी शिक्षा निकेतन के शिक्षक महाराज सिंह, आर्य कन्या इंटर कॉलेज की शिक्षिका रेखा वर्मा, ज्ञान स्थली एकेडमी इटावा से डॉ प्रियंका पांडेय, राजकीय इंटर कॉलेज से दिनेश कुमार कुशवाहा, अर्चना मेमोरियल इंटर कॉलेज से रशिम श्रीवास्तव, राजकीय बालिका इंटर कॉलेज से केशवती गोयल,सरस्वती इंटर कॉलेज मोतीझील से गजेंद्र सिंह सेंगर, सेवेन हिल्स स्कूल से शोभित कुलश्रेष्ठ ,पुलिस मॉडर्न स्कूल से शिक्षक लोकेश सक्सेना, नारायण कॉलेज ऑफ साइंस एवं आर्ट से शिक्षक अर्जुन सिंह, ब्लू बर्ड इंटर कॉलेज के शिक्षक दिनेश कुमार, थियोसॉफिकल इंटर कॉलेज की शिक्षिका कृष्णा तिवारी, पान कुँवर इंटरनेशनल इंटर कॉलेज से शिक्षक मनीष यादव, संत विवेकानंद सीनियर सेकेंडरी स्कूल के शिक्षक केशव आनंद तथा जीसी जीनियस स्कूल की शिक्षिका सीमा पालीवाल को सम्मानित किया गया|

छात्र अभिनंदन कार्यक्रम में सम्मानित किए गए छात्र गण-

सेंट मैरी इंटर कॉलेज से सुहानी वर्मा,अक्षत सिंह व अंशिका केसरवानी, शीतल प्रसाद शोरावाल बालिका इंटर कॉलेज से कु. खुशी एवं कु.सोनी, शिवाजी शिक्षा निकेतन से कु.नंदिनी सिंह एवं विकास चौधरी, आर्यकन्या इंटर कॉलेज से मुस्कान रोशन एवं कु. दिया, ज्ञान स्थली एकेडमी से अर्पित वर्मा एवं कु. खुशी, राजकीय इंटर कॉलेज से कु. अन्नू सविता एवं शिवम शाक्य,अर्चना मेमोरियल इंटर कॉलेज से जतिन कश्यप एवं हर्षिता कुमारी, राजकीय बालिका इंटर कॉलेज से कु. दीक्षा कुशवाहा एवं कु. लिमी पटेल , सरस्वती शिशु मंदिर इंटर कॉलेज मोती झील से युवराज श्रीवास्तव एवं कु.सृष्टि यादव, सेवन हिल्स इंटर कॉलेज इटावा से अच्युत शर्मा एवं कु. श्रेया दीक्षित , पुलिस मॉडर्न इंटर कॉलेज से चिराग राठौर एवं उमा प्रांजल, नारायण कॉलेज ऑफ़ साइंस एवं आर्ट से कु. सांझ अग्रवाल एवं ऋषभ राजपूत, ब्लू बर्ड इंटर कॉलेज से कु. अंजू यादव एवं नितिन कुमार , थियोसॉफिकल इंटर कॉलेज इटावा से राम प्रिंस मिश्र एवं सुकृति शर्मा , सन्त विवेकानंद इंटर कॉलेज से रिद्धिमा मिश्रा एवं मानसी दीक्षित,जी.सी.जीनियस पब्लिक स्कूल से अनुराग एवं आयुषी गौतम को सम्मानित किया गया|