Tuesday , May 28 2024

बाराबंकी राम कथा साहित्य के महान टीकाकार संत कवि बैजनाथ उद्यान छाया चौराहा से पूर्वज साहित्यकार जन्म भूमि दर्शन यात्रा का शुभारंभ हुआ

बाराबंकी। राम कथा साहित्य के महान टीकाकार संत कवि बैजनाथ उद्यान छाया चौराहा से पूर्वज साहित्यकार जन्म भूमि दर्शन यात्रा का शुभारंभ हुआ उप जिलाधिकारी सदर श्री पंकज कुमार सिंह ने हरी झंडी दिखाकर यात्रा को रवाना किया। यात्रा संरक्षक डॉ. राम बहादुर मिश्र ने संत कवि बैजनाथ की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। डॉ. मिश्र ने कहा कि अवधी का विकास सचमुच हिंदी का ही विकास है। अवध क्षेत्र के जनपद बाराबंकी में अवधी को समृद्ध करने वाले दो दर्जन पूर्वज रचनाकारों की जन्मभूमि पर पहुँचकर उन्हें नमन किया जाएगा। यात्रा के निर्देशक अजय सिंह गुरु जी ने इस यात्रा को बाराबंकी जनपद इतिहास को समृद्ध करने वाली बताया। उन्होंने कहा कि पूर्व साहित्यकारों की स्मृतियों को सहेजना एक बड़ा काम है। इन नौजवानों को धन्यवाद जिन्होंने ऐसा सराहनीय कदम उठाया। एसडीएम सदर श्री पंकज कुमार सिंह ने कहा इस यात्रा के दौरान जो स्मृतियां सहेजी जाएंगी, उनका अभिलेखीकरण कराया जाए जिसमें प्रशासन का हर संभव सहयोग रहेगा।
पूर्वज साहित्यकार जन्म भूमि दर्शन यात्रा हरख स्थित संत महावीर साहब, खुशली पुरवा स्थित श्री सत्रोहन लाल विद्यार्थी, धनौली स्थित पंडित महेश दत्त शुक्ल व खेमकरण, शेखपुर दामोदर स्थित डॉ0 पुरुषोत्तम शरण पुरुशेष, नसीपुर स्थित डॉ अवधेश शर्मा, हैदरगढ़ के कवि श्याम नारायण विटप, जगदीश सिंह नीरद, राघव बिहारी सिंह सहित एक दर्जन अवधी हिंदी को समृद्ध करने वाले साहित्यकारों की जन्मभूमि पर पहुंच कर नमन किया गया। हरख, भानमऊ सहित कई स्थानों पर स्वागत किया गया।
यात्रा दल में डॉ. राम बहादुर मिश्र,अजय सिंह गुरु जी, यात्रा अध्यक्ष प्रदीप सारंग, संयोजक पंकज कँवल, सचिव कुमार पुष्पेंद्र, सह सचिव विष्णु कुमार शर्मा कुमार, सदानंद, रजत वर्मा, हंसराज वर्मा, सीताकांत मिश्र स्वंयम्भू आदि को उपजिलाधिकारी ने माला पहनाकर स्वागत किया तथा डॉ. कंचन गुप्ता जिलाध्यक्ष महिला काव्य मंच एवं श्री संजय द्वारा यात्रा दल के सदस्यों का टीका किया गया। इस मौके पर ओम प्रकाश सिंह, सन्त कवि बैजनाथ के वंशज प्रताप सिंह, डॉ श्याम सुंदर दीक्षित, अम्बरीष अम्बर, प्रदीप महाजन, डॉ फिदा हुसैन, ई0 अरुण कुमार वर्मा, अनुपम वर्मा,अब्दुल खालिक, बद्री प्रसाद आदि मौजूद थे।