Wednesday , July 24 2024

इटावा सफाई कर्मियों की समस्याओं को लेकर अनुसूचित जाति आयोग अध्यक्ष को दिये 3 ज्ञापन

अजय कुमार सिंह)

इटावा।

उत्तर प्रदेश अनुसूचित जाति /जनजाति आयोग के अध्यक्ष डॉ. रामबाबू हरित को आज यहां सफाई कर्मियों की अलग अलग समस्याओं को लेकर उप्र सफाई मजदूर संयुक्त मोर्चा ने 3 अलग अलग ज्ञापन देकर समस्याओं का समाधान कराने की मांग की गई है।
सफाई मजदूर संयुक्त मोर्चा ने दिये पहले ज्ञापन में मांग की है कि 1952 के शासनादेश में साफ निर्देश दिया है कि कामगार की सेवानिवृत्ति के बाद उसके भविष्य की चिन्ता व असामयिक निधन पर उसके आश्रितों को सामाजिक सुरक्षा प्रदान करना और सेवानिवृत्ति सम्बन्धी लाभ प्रदान किया जाये परन्तु यहां के बाल्मीकि समाज के सफाई कर्मियों को उपरोक्त सुविधाएं नहीं दी जा रही। ज्ञापन में मांग की गई है कि सफाई कर्मियों के कल्याण हेतु जारी शासनादेश को यहा लागू कराया जाये।
दिये गये दूसरे ज्ञापन मे मांग की गई है कि 5 दिसम्बर 2019 को जारी शासनादेश में नगर विकास अनुभाग-1 के द्वारा श्रमिकों से न्यूनतम मजदूरी अधिनियम 1948 सहपठित नियमावली – 1952 के अन्तर्गत धारा- 13 (1) बी नियम – 13 में उल्लखित व्यवस्थान्तर्गत सफाई कर्मियों को साप्ताहिक अवकाश दिया जाये। जबकि यहां के सफाई कर्मियों से अवकाश के दिन भी नाजायज दबाब डालकर काम लिया जा रहा है।
तीसरे ज्ञापन में मांग की गई है कि स्थानीय निकाय लखनऊ से 16 जनवरी 2019 को जारी पत्र संख्या – 2/7462/39 विविध टैक्स कलेक्शन / 11 के तहत नगर निकायों में कार्यरत सफाई कर्मचारियों से उनके मूल पद से उच्च पद का कार्य न लिया जाये, परन्तु यहां दूसरे वर्गों के कुछ कर्मचारी बाल्मीकि समाज के सफाई कर्मियों से अवैध बसूली करते हैं और इनका शारीरिक तथा मानसिक उत्पीड़न करते आ रहे हैं, यही नहीं यहां पालिका परिषद में तैनात सफाई खाद्य निरीक्षक आनन्द कुमार व मुस्ते हसन जो बाल्मीकि समाज की एक बालिका के साथ शारीरिक दुर्व्यवहार मामले में पॉक्सो एक्ट 376, 3 / 4 जैसे अन्य गम्भीर आरोपों में मामला न्यायालय में विचाराधीन होने के बावजूद अब तक अधिकारियों की कृपा से ड्यूटी पर कार्यरत हैं जिनको अब तक पद निलम्बित नहीं किया गया और यही दोनों कर्मी बाल्मीकि समाज की महिला व पुरुष सफाई कर्मियों का वर्षों से सर्वाधिक उत्पीड़न करते आ रहे हैं। इस समूच मामले की उच्चस्तरीय जांच कराई जाये इससे पहले दोनों को तत्काल पद से हटाया जाये। आदि मांगें आयोग के अध्यक्ष के समक्ष रखीं हैं जिन पर उन्होंने जांच व कार्यवाही का भरोसा दिया है। ज्ञापन देने वालों में मोर्चा के जिलाध्यक्ष लाखन सिंह व मुख्य संरक्षक राजा भईया के साथ अन्य कई कर्मचारी भी साथ रहे।