Thursday , June 13 2024

राम के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले गिरोह पर न्यायालय ने किया मुकदमा दर्ज करने का आदेश

 

कैराना। रामलीला कमेटी के पूर्व प्रबंधक सहित 15 लोगों पर मुकदमा दर्ज के आदेश, करीब 50 लाख गबन का लगा आरोप, 8 साल जनता से चंदा इकट्ठा कर काट रहे थे चांदी, राम के नाम पर पैसा इकट्ठा कर उत्तराखंड में बनाई करोड़ों की संपत्ति, 420,467, 468 471,120B सहित गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज करने के न्यायालय ने दिए आदेश, संस्था के फर्जी दस्तावेज तैयार कर करते थे लाखों इकट्ठा।

दरअसल आपको बता दें पूरा मामला कस्बा कांधला के मोहल्ला रायजादगान स्थित रामलीला मंडप पंचवटी के पूर्व कमेटी का है जिसमें पूर्व प्रबंधक राम कुमार सिंधल सहित 15 व्यक्तियों पर न्यायालय ने मुकदमा दर्ज करने के किए आदेश। राम के नाम पर भोली भाली जनता को गुमराह कर लाखों रुपए चंदे इकट्ठा कर गबन करते आ रहे थे। साथ ही फर्जी संस्था बनाये जाने व फर्जी तरीके से कूट रचित फर्जी दस्तावेज तैयार कर चंदे के नाम पर धन हड़पने वाले गिरोह के मुख्य अभियुक्त रामकुमार सिंधल ,श्याम कुमार सिंधल पुत्र राजेन्द्र सिंधल सहित 15 अभियुक्तों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के न्यायालय ने आदेश जारी कर दिया है।अब जल्द होगा थाना कांधला में संगीन धाराओं में मुकदमा पंजीकृत।
आपको बता दे रामकुमार सिंधल एक बहुत बड़ा धोखाधड़ी करने वाला व्यक्ति है। इतना ही नहीं रामकुमार सिंघल के पिता ने श्री शीतला माता मंदिर कांधला के भी करोड़ो रूपये हजम किया है। जिसके बाद में भृगुवंशी आशुतोष पाण्डेय ने शासन को शिकायत की थी। शिकायत के बाद तत्कालीन उपजिला मजिस्ट्रेट अमितपाल शर्मा ने उक्त मन्दिर पर सरकारी रिसीवर नियुक्त किया था। भृगुवंशी आशुतोष पांडे ने कहा इनके पूरे परिवार की सम्पत्ति की होनी जांच चाहिए जांच। इन लोगो ने शामली सहित उत्तराखंड के देहरादून में बहुत सम्पत्ति धार्मिक चंदे से अर्जित की है।श्री रामलीला का 50 लांख से ऊपर का रुपया हजम किया, ओर यह रुपये एक खंडर के निर्माण दिखाया गया है। सभी जल्द अपने साथियो सहित जेल में जायेगे।भृगुवंशी आशुतोष पण्डेय अध्यक्ष प्राचीन श्री रामलीला पंचवटी मण्डप ट्रस्ट(रजिस्टर्ड) कैराना रोड रामलीला मैदान कांधला ने बताया कि यह धोखेबाज धोखाधड़ी के साथ-साथ गुंडागर्दी करने में भी पीछे नहीं हटते जिन्होंने रामलीला मैदान वह रामलीला मंडप पर 2 दिन पूर्व कब्जा करने का प्रयास किया था जबकी उधर कैराना एसडीएम ने पूर्व कमेटी को परमिशन देने से साफ इंकार कर दिया था। इन दबंग व्यक्तियों ने अपनी गुंडागर्दी दिखाते हुए साथ ही प्रशासन को खुली चुनौती देते हुए खुलेआम कस्बे में शोभायात्रा निकालते हुए रामलीला मैदान पहुंचे थे।जहां पर रामलीला मैदान में कब्जा करने का प्रयास कर रहे थे। बाद में सभी दबंग लोग रामलीला मैदान के बाहर ही झंडे छोड़कर भागते हुए नजर आए थे। गुरुवार को न्यायालय ने इन सभी धोखाधड़ी करने वाले व्यक्तियों पर मुकदमा दर्ज करने के कांधला थाने को आदेश पारित कर दिए है।