Tuesday , May 21 2024

मैनपुरी लाखों का दहेज भी नहीं दिला सका बेटी को ससुराल में सुकून

 

पंकज शाक्य

मैनपुरी- समाज में ससुर का कद पिता के तुल्य ही होता है। एक पिता जब बेटी को पति के हाथों सौंपता है तो यही कहता है कि बेटी अब तुम्हारे पिता यही हैं। दहेज के लालची ऐसे पिता की वासना से भूखी आंखे जब वहू को खा जाने बाली दृष्टि से निहारेंगीं तो वह अबला अपनी इज्जत की रक्षा किस प्रकार कर सकेगी।
थाना भोगांव के मुहल्ला पथरिया की शिवा कॉलौनी निवासी सोनम यादव पुत्री सुधीर कुमार ने एसपी को प्रार्थनापत्र दिया है कि उनकी शादी 19 नवम्बर 2017 को राहुल पुत्र सुघरसिंह यादव निवासी सिविल लाइन्स डबरई थाना मटसैना हाल निवासी मोहल्ला आर्य नगर थाना उत्तर फिरोजाबाद के साथ हुई थी। सोनम ने बताया कि उनके पिता ने उसकी शादी में 28 लाख रूपये बतौर दान दिया था। लेकिन लालची पति व ससुर ने उसका बहुत उत्पीडन किया। पति राहुल, ससुर सुघर सिंह, ननद रश्मि तथा ननदोई दीपक के बार बार उत्पीडन से परेशान होकर सोनम के पिता ने आठ लाख रूपये दामाद राहुल को दे दिये। क्या किया जाए दहेज के लालचियों की दहेज की भूख शान्त नहीं हुई। उक्त लोगों ने पांच लाख की अतिरिक्त मांग और कर दी। तब सोनम के पिता ने किसी तरह पांच लाख जुटाये और 26 जून 2020 को जनपद के महिला थाना में राहुल और सुघर सिंह को दे दिये। बताते चलें कि सुघरसिंह बिधुर है। आरोप है कि सुघर सिंह अब सोनम के साथ अनैतिक सम्बन्ध बनाने का प्रयास करने लगा। 25 अगस्त 2021 को सोनम जब अपनी ससुराल गई। तो पति और ससुर ने उसे घर में नहीं घुसने दिया। तब वह वहीं पर भूख हडताल पर बैठ गई तथा दो दिन के बाद वह अपने मायके लौट आई। 27 अगस्त को मध्यस्त किशनचन्द्र तथा पति व ससुर ने उसके पिता को आश्वासन दिया कि अब जो हुआ सो हुआ। आगे से पुरानी बातें नहीं दोहराई जायेंगीं। मायके पहुंचने पर उसके ननदोई व ननद भी वहां पहुंच गई। रात के समय ससुर ने सभी से कहा कि इसने काफी बेइज्जती करा दी है, आज इसे ठिकाने लगा दो। इसके बाद सभी ने उसे दबोच लिया और उसके गले पर लात रखकर मारने का प्रयास किया। उसके चीखने पर उसे एक कमरे में पांच दिनों तक बन्द रखा गया तथा उसका मोवाइल भी उससे छींन लिया गया। उसने अपने मायके आकर अपना मेडिकल कराया तथा जब थाने रिपोर्ट लिखाने गई, तो पुलिस ने कहा कि राजीनामा करलो। पीडिता ने एसपी से गुहार लगाई है कि वह भोगांव पुलिस को मुकद्दमा लिखने के लिये आदेशित करें।