Tuesday , April 16 2024

UNSC में समुद्री सुरक्षा को लेकर हुई उच्च स्तरीय बैठक में भिड़े अमेरिका-चीन, दक्षिण चीन सागर को लेकर कहा ये…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की समुद्री सुरक्षा को लेकर हुई उच्च स्तरीय बैठक में सोमवार को अमेरिका और चीन आपस में भिड़ गए। अमेरिका ने कहा कि उसने दक्षिण चीन सागर में गैरकानूनी समुद्री दावों के तहत चीन को ”उकसाने वाले कदम” उठाते देखा है, जिसके जवाब में चीन ने कहा कि अमेरिका को इस मामले पर ”गैरजिम्मेदाराना बयान” देने का कोई अधिकार नहीं है।

इस क्षेत्र पर ब्रुनेई, मलेशिया, फिलीपीन, ताइवान और वियतनाम भी दावा करते हैं। चीन इस क्षेत्र में कृत्रिम द्वीपों पर सैन्य शिविर बना रहा है। ब्लिंकन ने कहा, ”अमेरिका ने उन कदमों को लेकर अपनी चिंताएं स्पष्ट कर दी हैं, जो अन्य देशों को उनके समुद्री संसाधनों तक कानूनी तरीके से पहुंचने को लेकर धमकाते या परेशान करते हैं।”

पाकिस्तान ने भारत का जिक्र करते हुए दावा किया कि कुछ देश भू-रणनीतिक प्रतिस्पर्धा सैन्य प्रभुत्व स्थापित करने में लिप्त है। साथ ही पाकिस्तान ने कहा कि वह सैन्यीकरण करना जारी रखेगा।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में समुद्री सुरक्षा पर सोमवार की उच्च स्तरीय बैठक के बाद, पाकिस्तान के स्थायी प्रतिनिधि मुनीर अकरम ने सत्र के रिकॉर्ड में शामिल होने के लिए भारतीय मिशन को एक लिखित बयान भेजा है।

चीन के उप स्थायी प्रतिनिधि दाई बिंग ने बैठक में सबसे अंत में अपनी बात रखी और कहा कि वह ”इस बात को रखना चाहते हैं कि दक्षिण चीन सागर के मामले पर चर्चा करने के लिए सुरक्षा परिषद उचित मंच नहीं है। अमेरिका ने अभी-अभी दक्षिण चीन सागर का जिक्र किया और चीन इसका कड़ा विरोध करता है।”