Friday , March 1 2024

फिरोजाबाद मेडिकल कॉलेज जिला अस्पताल में बच्चों के उपचार को उचित व्यवस्था नहीं

नरेंद्र वर्मा
फिरोजाबाद। मेडिकल कॉलेज जिला अस्पताल में वायरल तथा डेंगू से पीड़ित बच्चों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। उनके उपचार के लिए मेडिकल कॉलेज में उचित इंतजाम नहीं दिखाई दिए। एक एक बेड पर दो से तीन बच्चों को लिटाकर इलाज किया जा रहा है। कई बच्चे जो जमीन पर लेट कर उपचार ले रहे हैं। नगर विधायक के हस्तक्षेप के बाद पलंगों की संख्या बढ़ाई गई।
मेडिकल कॉलेज में वायरल डेंगू के मरीजों की संख्या दिनोंदिन बढ़ रही है। इनमें बच्चों की संख्या अधिक है। प्रतिदिन बच्चों की संख्या बढ़ रही है।
अस्पताल में बच्चों के उपचार के लिए उचित व्यवस्था नहीं दिखाई दे रही। बच्चों के भर्ती करने के लिए भी पलगो की संख्या काफी कम है।
हालात यह हैं एक एक पलंग पर दो तथा उससे अधिक बच्चे लेटे दिखाई दे रहे हैं। कई बच्चों का जमीन पर भी लिटा कर उपचार किया जा रहा है। मेडिकल कॉलेज की व्यवस्था को देख सभी लोग हैरत में हैं।
*इनसेट*
*कोरोना की तीसरी लहर में कैसे होगी व्यवस्था*
फिरोजाबाद। कोरोना की तीसरी लहर की आशंका बनी हुई है। अगर ऐसा ही चलता रहा तो कोरोना की तीसरी लहर आने पर क्या हालात होंगे यह सुबह ही सोचा जा सकता है। तीसरी लहर को लेकर मेडिकल कॉलेज प्रशासन जिला अस्पताल प्रशासन बड़े-बड़े दावे कर रहा है। पर जमीनी हकीकत बिल्कुल उलट है।
*इनसेट*
*विधायक ने संबंधित को फटकार लगाई*
फिरोजाबाद। विधायक मनीष असीजा ने निरीक्षण के दौरान वहां के हालात देखे तो हैरत में पड़ गए। उन्होंने संबंधित को जमकर लताड़ लगाई। सीएमएस हंसराज सिंह को भी बुला कर वहां के हालातों से अवगत कराया। व्यवस्था को शीघ्र दुरुस्त करने को कहा।
*इनसेट*

*पुरानी इमरजेंसी में 26 बेड की व्यवस्था की गई*
फिरोजाबाद। नगर विधायक के हस्तक्षेप के बाद अस्पताल प्रशासन हरकत में आया। आनन-फानन में बच्चों के लिए पुराने इमरजेंसी में 26 बेड की व्यवस्था की गई। और भी बेड बढ़ाने की कवायद की जा रही है। वार्ड नंबर 5 में भी बच्चों के लिए व्यवस्था की जा रही है।
*इनसेट*
*सीएमएस बोले व्यवस्थाएं की जा रही हैं*
फिरोजाबाद। सीएमएस हंसराज सिंह ने बताया वायरल से अचानक मरीजों की संख्या बढ़ गई है। 26 बेड की व्यवस्था तुरंत की गई है। और भी व्यवस्था की जा रही है।

*क्रोसर*
*जिला अस्पताल में बेड की संख्या बढ़ाई गई*
*अन्य व्यवस्थाओं को सुचारु करने में जुटा अस्पताल प्रशासन*