Tuesday , May 28 2024

कन्नौज: शिक्षक दिवस पर वरिष्ठ नागरिक समिति ने 30 रिटायर्ड शिक्षकों सहित 25 वरिष्ठ नागरिकों का किया सम्मान

 

प्रज्ञेश प्रकाश भट्ट

कन्नौज। कलेक्ट्रेट के भव्य हाल में पूर्व राष्ट्रपति स्व राधाकृष्णन के जन्मदिन पर पांच सितंबर शिक्षक दिवस पर वरिष्ठ नागरिक समिति द्वारा तीस अवकाश प्राप्त शिक्षकों व 25 वरिष्ठ नागरिकों को सम्मानित किया गया। मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व डीआईजी रतन कुमार श्रीवास्तव ने भाग लिया।

रतन कुमार श्रीवास्तव ने अपने संबोधन में कहा कि शिक्षक ज्ञान का भंडार है। शिक्षक समाज का आदर्श है। हम कितना भी व्यापारिक हो जाये लेकिन आज भी शिक्षकों के सम्मान में उनके चरण छूते हैं। यह भारतीय परंपरा आज भी अक्षुण है। उन्होंने कहा कि शिक्षा का स्तर गिरा है लेकिन फिर भी शिक्षकों ने ज्ञान को आगे बढ़ाए रखा है। उन्होंने कहा कि वरिष्ठ नागरिक समिति द्वारा शिक्षकों के सम्मान में किया जा रहा यह आयोजन वाक़ई में तारीफ के काबिल हैं सबसे बड़ी बात यह है जहाँ एक ओर बुजुर्ग शिक्षक सम्मानित हो रहे हैं वहीं युवा पीढ़ी के कुछ लोगो को विशिष्ट क्षेत्र में कार्य करने वाले लोगो को भी सम्मानित किया गया है जो दोनो पीढ़ियों के तारयतम को जोड़ता है।
विशिष्ट अतिथि के रूप में जिला सूचना अधिकारी शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कहा कि गुरु तो सर्वोपरि है इसे वेद भी मानते हैं। आचार्य देवो भव। वैदिक काल से गुरु को सर्वोच्च श्रेणी में स्वीकार किया गया है।
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे वरिष्ठ नागरिक समिति के अध्यक्ष स्मरजित अग्निहोत्री ने कहा कि हमारी संस्कृति में माता पिता से भी ऊंचा दर्जा गुरु को दिया गया है। एक तरफ माता पिता बच्चों को जन्म देते हैं तो शिक्षक उसके जीवन को आकार देते हैं। शिक्षक हमेशा उसे रास्ता दिखाते हैं और प्रेरणा भी देते हैं। शिक्षक ही एक ऐसा वर्ग है जो समाज मे अच्छा नागरिक बनाता है। हमारे जीवन की नीव शिक्षक है। समिति द्वारा शिक्षकों का जो सम्मान किया जा रहा है वह हम सबके लिए गौरव की बात है कि इतनी बड़ी संख्या में शिक्षकों का सम्मान करने का अवसर मिल रहा है।
कार्यक्रम का संचालन सचिव रामजी अग्रवाल ने किया।
रिटायर्ड शिक्षकों में डॉ धीरेन्द्र दुबे, एसएस मिश्र, मो इस्लाम मंसूरी, एम सी पाल, आदेश नरायन सक्सेना, अहमद रजा खां, श्री प्रकाश दुबे, महेश शर्मा, सोमप्रकाश शुक्ला, कृष्ण कांत मिश्र, जगपाल सिंह, रुक्मगल सिंह, श्री नरायन मिश्र, के सी द्विवेदी, वेदप्रकाश त्रिपाठी, शकील अहमद सिद्दीकी आदि शिक्षको को प्रमुख रूप से शाल ओढ़ाकर व प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया। वहीं पूर्व पालिकाध्यक्ष केशव दास टंडन, अजय पांडेय, महेंद्र बाजपेयी एडवोकेट, हृस्वरूप वर्मा, अनीता सक्सेना, यतीश स्वरूप सक्सेना, नुरुल हसन, रंजन बाजपेयी, प्रकाश शर्मा आदि को भी शाल ओढ़ाकर व प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया।
कार्यक्रम के अंत मे मुख्य अतिथि पूर्व डीआईजी रतन कुमार श्रीवास्तव, विशिष्ट अतिथि जिला सूचना अधिकारी शैलेन्द्र कुमार शर्मा, ऋषि विक्रमादित्य को शाल ओढ़ाकर व प्रमाण पत्र तथा बाबा गौरीशंकर का चित्र देकर सम्मानित किया गया।