Sunday , June 23 2024

रसोई घर में पाई जाने वाली ये चीज़ पीरियड्स में होने वाले असहनीय दर्द से आपको दिलाएगी निजात

कई बार जुकाम के बाद भी कफ इकट़ठा होने से गले और छाती में कंजक्‍शन होने लगती है। इन सभी समस्‍याओं में काम आती है मुलेठी ।आयुर्वेदिक मुलेठी की खूबियां बताते हुए कहते है, भारतीय आयुर्वेद और चीन निर्मित दवाओं में मुलेठी का इस्‍तेमाल होता रहा है।

हमारे रसोई घर में भी कई बार चाय का स्‍वाद बढ़ाने के लिए मुलेठी का प्रयोग किया जाता है। मुलेठी में शक्तिशाली फाइटोकेमिकल्स अर्थात फ्लैनोनोड्स, चाल्कोन्स, सैपोनिन और एक्सनोएस्ट्रोजेन्स की मौजूदगी के कारण इसके कई औषधीय लाभ हैं।

अगर आप खुद को बहुत ही ज्यादा कमजोर महसूस कर रहे हैं तो इसके लिए एक चम्मच मुलेठी के पाउडर में आधा चम्मच शहद और एक चम्मच घी मिलाकर एक कप दूध के साथ सुबह-शाम इसका सेवन करें। 1 माह में आपको फर्क नजर आ जाएगा।

मुलेठी में एंटी-ऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं जो आपकी इम्यूनिटी को मजबूत करने में मदद करते हैं। इसके लिए आप मुलेठी के पाउडर को शहद या घी के साथ खा सकते हैं।

अगर पीरियड्स के समय अधिक ब्ली़डिंग होती है तो मुलेठी कारगर है। इसके लिए 1-2 ग्राम मुलेठी पाउडर को 5-10 ग्राम मिश्री के साथ मिलाकर चावल के धोवन के साथ पीसकर पीएं।

मुलेठी में ऐसे गुण पाए जाते हैं जो आसानी से शरीर में खून की कमी को पूरा कर देता है। इसके लिए शहद में एक चम्मच मुलेठी मिलाकर पीएं। इसके अलावा आप चाहे तो 10-20 मिली मुलेठी का काढ़ा में शहद मिलाकर पीएं।