Tuesday , June 18 2024

बाराबंकी रामनगर:राजस्व और पुलिस की मिलीभगत से ग्राम चाँदामऊ में हो रहा है अवैध खनन

बाराबंकी रामनगर:राजस्व और पुलिस की मिलीभगत से ग्राम चाँदामऊ में हो रहा है अवैध खनन

*रिपोर्ट:-कृष्ण कुमार शुक्ल/बाराबंकी*
रामनगर बाराबंकी
माधव संदेश:रामनगर तहसील के अंतर्गत ग्राम पंचायत कटियारा के चाँदामाऊ में खनन माफिया रातो रात खनन कर रहे है।जहाँ पर खनन हो रहा है वहाँ पर हरे भरे पेड़ लगे हुवे है वहाँ मानको को दरकिनार कर अवैद्म रुप से चल रहे मिट्टी खनन के कार्य को खनन पुलिस एंव राजस्व प्रशासन असमर्थ दिखाई दे रहे है।जिसके कारण अगल बगल के खेत के किसानों में भारी रोष व्याप्त है।भुईया माता मंदिर का अस्तित्व अब जागरुक जनो को खतरे मे दिखाई पड रहा है।यह हाल तब है जब भुईया माता मंदिर को चौबीस गांवो के कुल देवी देवता के रुप मे पूज्य रहकर नगर पंचायत रामनगर के निवासियो के लिये भी सर्वश्रेष्ठ मान्यता हासिल है।रामनगर निवासी प्रेमशंकर पुत्र संकटा प्रसाद का कहना है कि मेरा खेत जहाँ खनन हो रही है उसके बगल में 6 बीघा खेत है ट्यूबेल है 40 फिट का कुंवा का गढ्ढा है और खनन के बगल में हरे भरे आम सीसम, के पेड़ है उनके अस्तिव पर खतरा बढ़ गया है।प्रेमशंकर ने कहा इसकी शिकायत रामनगर थाने पर भी की है लेकिन कोई सुनवाई नही हुई है।मालुम हो कि तहसील रामनगर के क्षेत्र मे अवैद्म खनन का कार्य बहुत बढ चुका है।कोई परमिट की आड मे भौगौलिक महत्व से खिलवाड कर अवैद्म आय अर्जित कर रहा है तो कोई बिना कागजी कोरम के ही अधिकारियो कर्मचारियो की मिली भगत से रात्रि भर अवैद्म खनन कर अपनी और समबंधित लोगो की जेबे भर रहे है।क्षेत्र के ऊपर जगह जगह जारी काफी गहरी खुदाई से क्या प्रभाव पडेगा इससे उनका दूर दूर तक कोई लेना देना नही है।विछलखा और चांदामऊ के बीच मे तमाम ऐसे स्थान है जहा पर चार चार पांच पांच मीटर तक गहरी खुदाई खनन माफियाओं के लोगो ने की है।लेकिन भुईया माता मंदिर की नीव के बीस तीस मीटर की दूरी पर ही तालाब बना दिये जाय तो जागरुक जनो की ओर से सवाल उठना लाजिमी है।जिसके कारण अब चौबीस गांवो के कुल श्रेष्ठ मंदिर के अस्तित्व को खनन माफिया सीधे चुनौती दे रहे है। खनन माफिया ग्राम चांदा मऊ में जहां पर खनन हो रही है उस के बीचो बीच में हरे भरे आम के पेड़ लगे हुए उसके चारों तरफ हरे भरे पेड़ हैं उनको पोकलैंड व जेसीबी के माध्यम से गिराया जा रहा है पर्यावरण के साथ छेड़छाड़ की जा रही है वहां के किसानों का भी कहना है कि जहां खनन हो रही है उसके बगल में मेरे खेत हैं और हरे भरे पेड़ भी हैं।उनके ऊपर खतरा बढ़ गया है।अब लोगो मे सवाल तो इस बात का है कि योगी सरकार मे भी इन खनन माफियाओ के हौसले इतने बुलंद कैसे है।इस समबंध मे तहसील दार सुरेन्द्र कुमार रामनगर से जब हमारे संवाददाता ने दूरभाष पर संपर्क किया उनका कहना था।कि उक्त खनन का जिले से परमीशन है यदि खुदाई मानक विहीन है और मंदिर परिसर के निकट है तो मै अभी जाच करवा रहा हूँ।