Friday , July 12 2024

फ्रंट कोरिडोर रेल ट्रैक की मरम्मत कार्य का जायजा लेने पहुंचे डीएफसीसी के अधिकारी

अनुराग गुप्ता/ सुबोध पाठक

जसवंत नगर। क्षेत्र के ग्राम राजपुर के निकट सोमवार की शाम माल गाड़ियों के लिए बनाए गए फ्रेट कॉरिडोर की रेल ट्रैक पर हुई दुर्घटना के बाद घटनास्थल से माल गाड़ी के डिब्बों तथा वहां पर बिखरे मलबे को हटाने का काम बड़ी-बड़ी क्रेनों के द्वारा किया जा रहा है । इस दौरान निरीक्षण के लिए डीएफसीसी के अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए हैं। आसपास के ग्रामीण इस दुर्घटना की वजह मालगाड़ी पर लदी मेटल स्क्रैप की आड़ी तिरछी हो जाने के बाद उसके खंभों से टकराने से बता रहे हैं। अभी रेलवे यातायात बहाल नहीं हो सका है

विवरण के अनुसार सोमवार देर रात से ही घटनास्थल पर रेलवैगनों को हटाने के लिए बड़ी बड़ी क्रेनें व अन्य मशीनी उपकरण पहुंचना शुरू हो गए थे लेकिन रात में चारों तरफ घना अंधेरा होने के कारण रेल ट्रैक को साफ करना मुश्किल हो रहा था। सुबह होते ही मलवा हटाने के काम में तेजी आ गई सबसे पहले मालगाड़ी के पलटे हुए वैगनो को हटाए जाने का काम तीव्र गति से किया जा रहा है दूसरी तरफ मालगाड़ी पर लदे सामान को जो इधर-उधर लाइनों पर फैला पड़ा है उसे मजदूरों के समूह लाइनों से हटाकर ले जाकर खेतों में रख रहे हैं ।सैकड़ों की संख्या में मजदूर घटनास्थल पर रेलवे ट्रैक को साफ करने में जुटे दिखाई दे रहे थे।

रेलवे के डीजीएम कार्यालय इलाहाबाद से ई डी अजय कुमार सुबह ही घटनास्थल पर पहुंच गए थे तथा उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित करना शुरू कर दिया था उन्होंने रेलवे वैगनो को सबसे पहले हटाने का निर्देश दिया। वे अधिकारियों को बार-बार यही निर्देश दे रहे थे कि जितनी जल्दी हो सके रेल ट्रैक को साफ कर उस पर रेल यातायात बहाल किया जाए। घटनास्थल पर पहुंचे पत्रकारों ने जब उनसे बात करने की कोशिश की तो उन्होंने यह कहकर बात करने से इंकार कर दिया कि घटना की जांच चल रही है जांच पूरी हुए बिना कुछ भी कहना संभव नहीं है।

घटनास्थल पर देखने पर पता चलता है कि इस दुर्घटना में काफी लंबी दूरी तक रेलवे लाइन क्षतिग्रस्त होकर इधर-उधर पड़ी हुई है उन को दुरुस्त कर रेल यातायात चालू करने में अभी समय लग सकता है ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है हालांकि आसपास की कई रेलवे स्टेशनों से बुलाए गए मजदूर तेजी से मलवा हटाने के काम में जुटे हुए हैं लेकिन रेल पटरी व खंभों को ज्यादा नुकसान हुआ है जिससे उन्हें जल्द दुरुस्त करना संभव प्रतीत नहीं हो रहा है।

आसपास क्षेत्र के ग्रामीणों के अनुसार यह दुर्घटना मालगाड़ी पर नदी मेटल स्क्रैप के आड़े तिरछे हो जाने के बाद खंभों से टकराने के पश्चात घटित हुई बताई जा रही है हालांकि रेलवे फ्रेट कॉरिडोर से जुड़े अधिकारी घटना की जांच में व्यस्त हैं और वह क्या निष